Monday, November 29, 2021

इस तरीके से जल्दी ठीक होगी डायबिटीज, मधुमेह के इलाज पर हुई बड़ी भारतीय रिसर्च


देश का एक बड़ा हिस्सा टाइप-2 मधुमेह से पीड़ित है और इसमें उन लोगों की संख्या ज्यादा है, जो यह जानते भी नहीं हैं कि उन्हें डायबिटीज है. टाइप-2 डायबिटीज शरीर में अत्यधिक ब्लड शुगर के कारण होती है, जिसके गंभीर मामले में इंसुलिन इंजेक्शन लेने की सलाह दी जाती है. मगर फिर भी ब्लड शुगर कंट्रोल कर पाना मुश्किल हो जाता है. लेकिन, आने वाले समय में डायबिटीज के इलाज का यह तरीका बदल सकता है और इसका श्रेय भारतीय रिसर्च को जाएगा.

ये भी पढ़ें: Anemia: एनीमिया (खून की कमी) किसे कहते हैं, जानें इसके प्रकार, लक्षण और इलाज

रिसर्च: डायबिटीज को ठीक करने का क्या है नया तरीका?
लखनऊ के संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के इंडोक्राइनोलॉजी विभाग के डॉ. रोहित सिन्हा के निर्देशन में हुई रिसर्च में पैंक्रियाज में बनने वाले ग्लूकॉगन हॉर्मोन को कम करके डायबिटीज के इलाज का नया तरीका खोजा गया है. यह रिसर्च चूहों पर की गई थी, जिसे अंतर्राष्ट्रीय जर्नल मॉलिक्यूलर मेटाबॉलिज्म में प्रकाशित किया जा चुका है. इस शोध में चूहों के पैंक्रियाज में मौजूद एमटीओआरसी-वन प्रोटीन की क्रिया को रोककर ग्लूकॉगन हॉर्मोन को नष्ट किया गया है. जिससे चूहों के ब्लड शुगर के स्तर में कमी देखी गई. संभावना जताई जा रही है कि यह रिसर्च भविष्य में मधुमेह के इलाज की दिशा को बदल सकती है.

Diabetes Treatment: क्या है ग्लूकॉगन हॉर्मोन?
हमारे पैंक्रियाज में दो हॉर्मोन मौजूद होते हैं, पहला इंसुलिन और दूसरा ग्लूकॉगन हॉर्मोन. इंसुलिन हॉर्मोन खाने से शुगर को लेकर एनर्जी के रूप में बदलता है. लेकिन जब शरीर में इंसुलिन का उत्पादन कम होने लगता है या फिर शरीर इंसुलिन के प्रति संवेदनशील नहीं रहता, तो ब्लड शुगर बढ़ने लगती है और टाइप-2 डायबिटीज की समस्या हो जाती है. इसे इस तरह से भी समझा जाए कि जब इंसुलिन का स्तर कम होने लगता है, तभी ग्लूकॉगन हॉर्मोन का स्तर बढ़ने लगता है. मधुमेह के गंभीर मामलों में इंसुलिन इंजेक्शन दिए जाते हैं, ताकि शरीर में इंसुलिन का स्तर बढ़ाया जा सके. लेकिन, यह भारतीय रिसर्च इंसुलिन का स्तर बढ़ाने के साथ ग्लूकॉगन हॉर्मोन के स्तर को कम करने पर जोर देती है.

ये भी पढ़ें: केरल में तेजी से फैल रहे Zika Virus का नहीं है कोई इलाज, जानें कारण, लक्षण और बचाव

रिसर्च पर क्या कहते हैं एक्सपर्ट?
लाइफस्टाइल और डायबिटीज रिवर्सल एक्सपर्ट डॉ. एच. के. खरबंदा का कहना है कि, यह रिसर्च काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकती है, लेकिन इसे कमर्शियली इस्तेमाल होने में समय लगेगा. डॉ. खरबंदा के मुताबिक, ग्लूकॉगन हॉर्मोन को कम करके डायबिटीज का इलाज करने का यह तरीका एडवांस टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों में इंसुलिन इंजेक्शन की निर्भरता को कम कर सकता है. हालांकि, इसका इस्तेमाल और असर देखने के लिए अभी इंतजार करना होगा.

यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.





Source link

MORE Articles

భారత మార్కెట్లో అత్యధిక మైలేజీని స్కూటర్లు: జెస్ట్, జూపిటర్, యాక్సెస్, యాక్టివా…

రోడ్లపై స్కూటర్లు మంచి ప్రాక్టికాలిటీని కలిగి ఉండి, గేర్లతో నడిచే మోటార్‌సైకిళ్ల కన్నా చాలా సౌకర్యవంతంగా ఉంటాయి మరియు నడపడానికి సులువుగా ఉంటాయి. సరసమైన ధర, లైట్ వెయిట్,...

కొత్త ప్లాంట్‌ ఏర్పాటుకి శ్రీకారం చుట్టిన Ather Energy.. కారణం అదేనా?

దేశీయ విఫణిలో 450X మరియు 450 ప్లస్ స్కూటర్‌లకు పెరుగుతున్న డిమాండ్ కారణంగా కంపెనీకి రెండవ ప్లాంట్‌గా కొత్త ఫ్యాక్టరీని ప్రారంభించనుంది. ఈ కొత్త ప్లాంట్ తర్వాత కంపెనీ...

Increase stamina: पुरुषों का स्टेमिना बढ़ाने का रामबाण तरीका, इन चीजों को खाने से मिलेगा गजब का फायदा

Increase stamina Symptoms causes and prevention of stamina deficiency stamina booster food brmp | Increase stamina: पुरुषों का स्टेमिना बढ़ाने का रामबाण तरीका,...

जानलेवा बीमारी के कारण बीच में ही छूट गई थी Johnny Lever के बेटे की पढ़ाई, शरीर में दिखने लगते हैं ऐसे लक्षण

comedian johnny levers son jessey lever was suffered from throat cancer know its symptoms and stages samp | जानलेवा बीमारी के कारण बीच...

The best Cyber Monday deals happening now

Black Friday is technically over, but many of the same deals have carried over into Cyber Monday — plus a few...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe