Friday, July 30, 2021

क्या सैनिटरी नैपकिन यूज करने से होता है Cancer? मेन्स्ट्रुअल हाइजीन के इन टिप्स को अपनाएं


नई दिल्ली: 11-12 साल की उम्र से जब से एक लड़की के पीरियड्स शुरू होते हैं तब से हर महीने माहवारी (Periods) के दौरान उसे जिस एक चीज पर पूरी तरह से निर्भर रहना पड़ता है वह है- सैनिटरी नैपकिन या पैड. आजकल टैम्पोन्स (Tampons), मेन्स्ट्रुअल कप (Menstrual Cup) जैसे कई विकल्प मार्केट में मौजूद है. बावजूद इसके बड़ी संख्या में महिलाएं अब भी माहवारी के दौरान कपड़ा या सैनिटरी नैपकिन ही इस्तेमाल करती हैं. ऐसे में यह जानना आपके लिए भी बेहद जरूरी है कि क्या सचमुच सैनिटरी नैपकिन इस्तेमाल करने से कैंसर (Cancer) का खतरा हो सकता है?

सिंथेटिक सैनिटरी नैपकिन से हो सकता है नुकसान

कुछ गाइनैकॉलजिस्ट्स का कहना है कि सैनिटरी नैपकिन इस्तेमाल करने की वजह से सर्वाइकल कैंसर (Cervical Cancer) या ओवेरियन कैंसर (Ovarian Cancer) होता है, यह बात पूरी तरह से गलत है और इस दावे को साबित करने के लिए कोई वैज्ञानिक तथ्य या रिसर्च भी मौजूद नहीं है. हालांकि अन्य डॉक्टरों और एक्सपर्ट्स की मानें तो इन दिनों मार्केट में प्लास्टिक और सिंथेटिक सैनिटरी नैपकिन (Sanitary Napkin) काफी बिक रहे हैं और इनके इस्तेमाल से जेनाइटल कैंसर का खतरा हो सकता है. इसका कारण ये है कि सिंथेटिक (Synthetic) सैनिटरी नैपकिन में अवशोषण करने वाले एजेंट के रूप में डायॉक्सिन (dioxin) केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है जो समय के साथ धीरे-धीरे शरीर में जमा होने लगता है. इसकी वजह से सर्वाइकल कैंसर या ओवेरियन कैंसर का खतरा हो सकता है.

ये भी पढ़ें- पीरियड्स के दौरान इन बातों का रखें खास ध्यान, नहीं होगी परेशानी

खुजली-एलर्जी के साथ ही कमजोर इम्यूनिटी का भी खतरा

WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) ने भी डायॉक्सिन को प्रदूषक और कैंसरकारी माना है जिसकी वजह से शरीर में सिर्फ खुजली या एलर्जी (Allergy) की दिक्कत नहीं होती बल्कि कैंसर जैसी गंभीर समस्याएं भी हो सकती हैं. साथ ही डायॉक्सिन शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) को भी दबाने का काम करता है. इस वजह से इंफेक्शन्स होने का खतरा काफी बढ़ जाता है. लिहाजा पीरियड्स के दौरान सैनिटरी नैपकिन इस्तेमाल करते वक्त अगर साफ-सफाई से जुड़े इन टिप्स का ध्यान रखा जाए तो आप बीमार पड़ने से बच सकती हैं:

ये भी पढ़ें- पीरियड्स में गड़बड़ी बन सकती है इस बीमारी की वजह, वक्त रहते करें पहचान

– पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग ज्यादा हो रही हो या कम 3 से 4 घंटे में एक बार सैनिटरी नैपकिन जरूर चेंज करें. लंबे समय तक एक ही नैपकिन यूज करने की वजह से भी बैक्टीरियल इंफेक्शन (Bacterial Infection) या दूसरी बीमारियों का खतरा हो सकता है.

– बायोडिग्रेडेबल, केमिकल फ्री और ऑर्गैनिक (Organic) सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करें. ऐसे सैनिटरी नैपकिन जिसमें खुशबू (Fragrance) हो उसे यूज न करें.

– पीरियड्स के दौरान प्यूबिक एरिया की साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें. 

– अगर रीयूजेबल सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल कर रही हों तो उसे पहले अच्छी तरह से धोकर साफ कर लें ताकि इंफेक्शन का कोई खतरा न रहे.

सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.





Source link

MORE Articles

diseases caused by obesity: आपको इन गंभीर बीमारियों का शिकार बना सकता है मोटापा, इन 5 तरीकों से वजन करें कंट्रोल

diseases caused by obesity: उल्टा सीधा खानपान और गलत लाइफस्टाइल के चलते कई लोग मोटापे से पीड़ित (suffering from obesity) हैं. हेल्थ एक्सपर्ट...

జగన్ బెయిల్ రద్దు: షాకింగ్ పాయింట్ -14 బదులు 25 ఎలా? -ఏ2 సాయిరెడ్డి కూడా జైలుకే: ఎంపీ రఘురామ

జగన్ బెయిల్ రద్దు తీర్పు.. క్విడ్ ప్రోకో సంబంధిత పలు కేసుల్లో నిదితుడైన వైఎస్ జగన్ తన ముఖ్యమంత్రి పదవిని అడ్డంపెట్టుకుని కేసును ప్రభావితం చేస్తున్నారని, సహ...

ఏపీ బాటలో యూపీ, జగన్ ను అనుసరిస్తున్న యోగి : కళ్ళు తెరిచి చూడు బాబు అంటున్న సాయిరెడ్డి

ఏపీ గ్రామ సచివాలయ వ్యవస్థపై గతంలో టీడీపీ విమర్శలు ఆంధ్రప్రదేశ్ రాష్ట్రంలో వైయస్సార్ కాంగ్రెస్ పార్టీ అధికారంలోకి వచ్చిన తర్వాత తీసుకున్న అనేక నిర్ణయాలు వివాదాస్పదమయ్యాయి. గ్రామ...

బసవరాజు బొమ్మై భావొద్వేగం.. శునకం చనిపోతే అలా.. అప్పటి వీడియో నేడు వైరల్

సీఎం కొడుకుగా.. బొమ్మై.. తండ్రి కూడా ఎస్ఆర్ బొమ్మై కూడా సీఎంగా పనిచేశారు. బసవరాజు బొమ్మై హోం మంత్రి నుంచి చీఫ్ మినిస్టర్‌గా ప్రమోట్ అయ్యారు. హోం...

AMD announces the Radeon RX 6600 XT, a $379 “1080p beast” that arrives on August 11

What just happened? After months of rumors, leaks, and speculation, AMD...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe