Wednesday, April 14, 2021

डिप्रेशन और एंग्जाइटी के कारण समय से पहले हो सकती है भूलने की बीमारी Alzheimer’s


नई दिल्ली: इन दिनों लोगों को जो 2 दिक्कतें सबसे ज्यादा परेशान कर रही हैं वह है- डिप्रेशन और एंग्जाइटी. The Lancet नाम की पत्रिका में प्रकाशित एक स्टडी की मानें तो भारत में 4 करोड़ 57 लाख लोग डिप्रेशन (Depression) का शिकार हैं और 4 करोड़ 50 लाख लोगों एंग्जाइटी (Anxiety) की समस्या है. ये आंकड़े साल 2017 के हैं. बीते साल, 2020 में कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन ने डिप्रेशन और एंग्जाइटी के इन मामलों में और अधिक बढ़ोतरी करने का काम किया है. लेकिन अब एक नई स्टडी में यह बात सामने आयी है कि डिप्रेशन और एंग्जाइटी की वजह से उम्र से पहले ही भूलने की बीमारी अल्जाइमर्स (Alzheimer’s) होने का खतरा रहता है.

याददाश्त के साथ ही सोचने की शक्ति खत्म कर देती है अल्जाइमर्स बीमारी

अल्जाइमर्स ब्रेन से जुड़ी एक बीमारी है जो धीरे-धीरे व्यक्ति की याददाश्त (Memory) और सोचने-समझने की क्षमता (Thinking Skills) को खत्म करने लगती है. एक बार ये बीमारी हो जाए उसके बाद इसे ठीक नहीं किया जा सकता, केवल दवा की मदद से कुछ हद तक कंट्रोल किया जा सकता है लेकिन समय के साथ यह बीमारी बढ़ती रहती है. ज्यादातर लोगों को यह बीमारी 60 से 70 साल की उम्र के बीच होती है. 

ये भी पढ़ें- आप भी चीजें इधर उधर रखकर भूल जाते हैं, ये चीजें खाएं याददाश्त बढ़ाएं

एंग्जाइटी के मरीजों को 3 साल पहले हो जाता है अल्जाइमर्स

अमेरिका के सैन फ्रैन्सिसको स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के अनुसंधानकर्ताओं ने इस स्टडी को किया है जिसे 17 से 22 अप्रैल 2021 के बीच अमेरिकन अकैडमी ऑफ न्यूरोलॉजी के 73वें वार्षिक मीटिंग के दौरान प्रेजेंट किया जाएगा. इस स्टडी में बताया गया है कि जिन लोगों को डिप्रेशन होता है उनमें सामान्य लोगों की तुलना में 2 साल पहले ही अल्जाइमर्स हो जाता है तो  वहीं एंग्जाइटी से पीड़ित मरीजों में 3 साल पहले ही अल्जाइमर्स के लक्षण दिखने लगते हैं.

ये भी पढ़ें- नींद नहीं हुई पूरी तो हो जाएंगे इन गंभीर बीमारियों का शिकार

ब्रेन हेल्थ को बनाए रखने की जरूरत

स्टडी की ऑथर जैकरी ए मिलर कहती हैं, ‘अभी इस बारे में और रिसर्च की जरूरत है ताकि यह समझा जा सके कि डिप्रेशन और एंग्जाइटी जैसे मनोरोग और भूलने की बीमारी अल्जाइमर्स होने के बीच क्या संबंध है. साथ ही यह भी पता लगाना है कि क्या डिप्रेशन और एंग्जाइटी का इलाज करके अल्जाइमर्स को होने से रोका जा सकता है. हम ये नहीं कह रहे कि जिन लोगों को डिप्रेशन और एंग्जाइटी है उन्हें अल्जाइमर्स बीमारी होगी ही, लेकिन जिन लोगों को ये 2 समस्याएं हैं उन्हें लंबे समय तक अपने ब्रेन हेल्थ को बनाए रखने के तरीकों के बारे में जानना होगा.’

सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.





Source link

MORE Articles

बाल झड़ने से हैं परेशान? अपनाएं ये सीक्रेट फार्मूला, फायदे हैरान कर देंगे

नई दिल्लीः बाल, शरीर का ऐसा हिस्सा है, जो इंसान की सुंदरता के लिए बेहद अहम माने जाते हैं. लेकिन आजकल बाल झड़ने...

Samsung Announces a Galaxy Unpacked Event on April 28 | Digital Trends

Samsung has announced its next Galaxy Unpacked event, where it will likely show off what’s next in its Galaxy product lines. This event...

Nvidia expects crippling GPU shortages to continue throughout 2021

If you’re waiting for the crippling graphics card shortage to loosen up before buying new hardware, well, you might be waiting for a...

Microsoft’s Surface Laptop 4 packs much faster Intel processors

Microsoft has unveiled the Surface Laptop 4.You’ll get faster 11th-gen Intel Core chips, but a familiar design and older AMD options.It’s available April...

Anker is making a $130 webcam as part of its new expansion to home office gear

Anker has announced a new webcam as part of its new AnkerWork line of home office gear. The new webcam, called...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe