Thursday, May 6, 2021

दाल खाने के सिर्फ फायदे ही नहीं हैं कुछ नुकसान भी, इन बीमारियों में भूलकर भी न खाएं


नई दिल्ली: दाल, फलीदार पौधा या फलियों के परिवार से आती है (Legume Family) जो लाल, काली, हरी और भूरी कई वरायटी में पायी जाती है. हाई क्वॉलिटी प्रोटीन (Protein) और फाइबर (Fiber) से भरपूर दाल (Lentils) सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद है. इसलिए दाल को रोजाना के संतुलित भोजन का हिस्सा जरूर बनाना चाहिए. अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन की मानें तो विटामिन्स, मिनरल्स और फाइबर से भरपूर दाल का सेवन करने से शरीर में एलडीएल यानी बैड कोलेस्ट्रॉल (Bad Cholesterol) के लेवल को कम करने में मदद मिलती है जिससे हृदय रोग (Heart Disease) का खतरा कम हो जाता है. 

प्रोटीन से भरपूर होती है दाल

वैसे तो दाल सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद है लेकिन कई बार हेल्दी चीजों का भी अगर अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो वह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक साबित हो सकता है. इस बारे में हमने बात की नोएडा के डाइटरीफिट की डायटिशियन अबर्ना माथिवानन से. अबर्ना कहती हैं, ‘बीन्स, दाल और मटर जैसी फलियों को स्वस्थ आहार (Healthy Diet) के महत्वपूर्ण हिस्से के तौर पर भोजन में शामिल करने का सुझाव दिया जाता है. स्वस्थ व्यक्ति को उसके वजन के मुताबिक रोजाना 1-1.2 ग्राम प्रोटीन प्रति किलो के हिसाब से सेवन करने की सलाह दी जाती है. यानी अगर आपका वजन 60 किलो है तो आपको रोजाना 60 ग्राम प्रोटीन खाना चाहिए. आधा कटोरी दाल में 8-10 ग्राम प्रोटीन, 20 ग्राम कार्ब्स, 7-9 ग्राम फाइबर और 115 कैलोरीज होती हैं.’

ये भी पढ़ें- मूंग दाल खाने के हैं कई फायदे, तेजी से वजन होता है कम

इन बीमारियों में न खाएं ज्यादा दाल

डायटिशियन अर्बना की मानें तो बहुत अधिक दाल का सेवन करने से ये समस्याएं हो सकती हैं:
– चूंकि दाल में प्रोटीन की मात्रा अधिक होती है इसलिए अधिक दाल खाने से आंत से जुड़ी समस्याएं जैसे- अपच या बदहजमी (Indigestion), डिहाइड्रेशन, हद से अधिक थकान (Exhaustion), जी मिचलाना, चिड़िचड़ापन महसूस होना, सिरदर्द और डायरिया जैसी दिक्कतें हो सकती हैं.

– अगर किसी व्यक्ति को गाउट (Gout) की बीमारी हो तो आपको भी डॉक्टर से पूछे बिना दाल, बीन्स आदि का सेवन नहीं करना चाहिए. इसका कारण ये है कि दाल में प्यूरीन (Purine) की मात्रा अधिक होती है और इसलिए गाउट के मरीजों को सूखी मटर, बीन्स, दाल आदि का सेवन नहीं करना चाहिए.

ये भी पढ़ें- दाल में क्यों लगाया जाता है तड़का, स्वाद के साथ ही सेहत के लिए भी जरूरी

– जिन लोगों को पेट फूलना (Bloating) और पेट में गैस की समस्या रहती हो उन्हें भी बहुत अधिक दाल, सूखी बीन्स और मटर का सेवन करने से परहेज करना चाहिए. इसका कारण ये है कि जब दाल में मौजूद नैचरल शुगर को शरीर तोड़ता है तो गैस बनने लगती है. ऐसे में जिन लोगों को अधिक गैस बनने की समस्या है उन्हें दाल का सेवन कम ही करना चाहिए.

– दाल, पालक, चाय और चॉकलेट जैसी चीजों में प्राकृतिक रूप से ऑक्सलेट (Oxalate) पाया जाता है और ऑक्सलेट का अधिक सेवन करने से किडनी में स्टोन (Kidney Stone) बनने का खतरा अधिक होता है.    

सेहत से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.





Source link

MORE Articles

త్వరపడండి..హోండా యాక్టివాపై అదిరిపోయే డిస్కౌంట్: పరిమిత కాలం మాత్రమే

ఇది మాత్రమే కాకుండా హోండా యాక్టివా 6 జి యొక్క 20 వ యానివర్సరీ ఎడిషన్ కూడా అందుబాటులో ఉంది. దీనిని మార్కెట్లో ప్రస్తుతం 69,343 రూపాయలకు...

30 జిల్లాల్లో ఏడు మనవే.. నవరత్నాలు ఎందుకు, మారెడ్డి అంటూ రఘురామ చిందులు

చీమ కుట్టినట్లయినా లేదు.. కరోనా విషయంలో ఆంధ్రప్రదేశ్ ప్రభుత్వానికి చీమ కుట్టినట్టయినా లేదని చెప్పారు. వైరస్ విషయంలో ప్రభుత్వం తీరు దున్నపోతు మీద వాన పడ్డట్టు...

Scam: స్టార్ హోటల్ లో రూ. 360 కోట్ల డీల్, నాడార్ స్కెచ్, లేడీ కాదు మగాడి మెడలోనే, ఢమాల్!

హరినాడార్ అంటేనే బంగారంకు బ్రాండ్..... క్రేజ్ తమిళనాడులోని తిరునల్వేలికి చెందిన హరి నాడార్ అలియాస్ హరి గోపాలక్రిష్ణ నాడార్ అంటే బంగారు నగలకు బ్రాండ్ అంబాసిడర్...

Google will make two-factor authentication mandatory soon

Most security experts agree that two-factor authentication (2FA) is a critical part of securing your online accounts. Google agrees, but it’s taking an...

There could be a new challenger to Samsung and Motorola’s clamshell foldables

Oppo is purportedly testing a clamshell foldable phone.The device is said to have a 7-inch main screen and a 2-inch external display.Samsung and...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe