Monday, November 29, 2021

40 रोटी थी रोजाना की खुराक, आंखों से दिखना हुआ बंद, जांच की तो निकली ये गंभीर बीमारी, जानिए क्या है Diabetic Ratinopathy


What is Diabetic Retinopathy Disease: मध्यप्रदेश के शिवपुरी से एक ऐसा मामला सामने आया है, जिनसे सभी को चौंका दिया. एक 12 साल का लड़का रोज 40 रोटियां खाता था. कुछ दिनों बाद उसकी आंखों की रोशनी चली गई. जब उसका हेल्थ चेकअप कराया गया तो वह एक गंभीर बीमारी से पीड़ित निकला. लड़के के परिजन उसे लेकर अस्पताल पहुंचे तो जांच में पता चला कि उसका शुगर लेवल 1206 मिलीग्राम/डेसीलीटर पहुंच गया था. जिसे देखकर डॉक्टर भी हैरान रह गए.

गनीमत ये रही है कि पांच डॉक्टरों की टीम ने 26 दिन की कड़ी मशक्कत के बाद बारी-बारी से उसकी दोनों आंखों का ऑपरेशन किया और आंखों की रोशनी वापस लौट आई. इस तरह लड़के को नया जीवन भी दिया. शिवपुरी के खोड में रहने वाले संदीप के पिता बनवारी आदिवासी ने बताया कि उनके बेटे संदीप को अचानक दिखना बंद हो गया और बेहोशी छाने लगी. इसके बाद उसे लेकर शिवपुरी के एक निजी हॉस्पीटल में डॉ. दीपक गौतम के पास पहुंचे. जब डॉ. गौतम ने उसका ब्लड शुगर टेस्ट किया तो 1206 मिलीग्राम/डेसीलीटर निकला. 

डायबिटिक रेटिनोपैथी से पीड़ित था संदीप
दैनिक भास्कर में छपी खबर के अनुसार, संदीप की शुगर कंट्रोल करने उसे प्रतिदिन 6-6 यूनिट इंसुलिन दिया. इससे उसका शुगर लेवल कंट्रोल हुआ. इसके बाद जब उसकी आंखों का चेकअप जिला चिकित्सालय के नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. गिरीश चतुर्वेदी से कराया तो उन्होंने उसे डायबिटिक रेटिनोपैथी से पीड़ित बताते हुए तत्काल आंखों के ऑपरेशन की सलाह दी. 

इस वजह से गई थी आंखों की रोशनी
संदीप का परीक्षण किया गया तो उसके सिर में मवाद भरा पाया गया. मेडिकल कॉलेज के सर्जन डॉ अनंत राखोंड़े ने सिर से 720 एमएल मवाद निकाली. डॉ राखोंडे ने बताया कि मवाद की वजह से वह बेहोशी की स्थिति में पहुंचा था और इसी से उसकी आंखों पर गंभीर असर हुआ और रोशनी चली गई. संदीप जिस डायबिटिक रेटिनोपैथी नाम की बीमारी से पीड़ित पाया गया था वह बेहद खतरनाक होती है. उन्होंने कहा कि इस बीमारी में रोशनी जाने के बाद वापस आना संवभ नहीं है. 

डायबिटिक रेटिनोपैथी क्या है?
यह एक बीमारी है, जो ब्लड शुगर (Blood Sugar) से पीड़ित व्यक्ति की रेटिना (आंख का पर्दा) को प्रभावित करती है. यह रेटिना को रक्त पहुंचाने वाली बेहद पतली नसों के क्षतिग्रस्त होने से होता है. समय पर इलाज न कराने से पूर्ण अंधापन भी हो सकता है. डायबिटीज के करीब 40 प्रतिशत मरीज इस बीमारी से पीड़ित हैं. दुनिया में अंधेपन का यह सबसे बड़ा कारण है. 

कैसे पता चलेगा कि डायबिटिक रेटिनोपैथी बीमारी होने वाली है?
डायबिटिक रेटिनोपैथी के शुरुआती लक्षणों में आंखों का लाल होना शामिल है. हालांकि शुरुआत में डायबिटिक रेटिनोपैथी को बाहर से देखने में आसानी से नहीं समझा जा सकता. जांच के जरिए ही डायबिटिक रेटिनोपैथी को डाइग्नोज किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें; How to increase immunity: कमजोरी की छुट्टी कर देंगी ये 5 चीजें, शरीर को अंदर से बनाती हैं ताकतवर





Source link

MORE Articles

భారత మార్కెట్లో అత్యధిక మైలేజీని స్కూటర్లు: జెస్ట్, జూపిటర్, యాక్సెస్, యాక్టివా…

రోడ్లపై స్కూటర్లు మంచి ప్రాక్టికాలిటీని కలిగి ఉండి, గేర్లతో నడిచే మోటార్‌సైకిళ్ల కన్నా చాలా సౌకర్యవంతంగా ఉంటాయి మరియు నడపడానికి సులువుగా ఉంటాయి. సరసమైన ధర, లైట్ వెయిట్,...

కొత్త ప్లాంట్‌ ఏర్పాటుకి శ్రీకారం చుట్టిన Ather Energy.. కారణం అదేనా?

దేశీయ విఫణిలో 450X మరియు 450 ప్లస్ స్కూటర్‌లకు పెరుగుతున్న డిమాండ్ కారణంగా కంపెనీకి రెండవ ప్లాంట్‌గా కొత్త ఫ్యాక్టరీని ప్రారంభించనుంది. ఈ కొత్త ప్లాంట్ తర్వాత కంపెనీ...

Increase stamina: पुरुषों का स्टेमिना बढ़ाने का रामबाण तरीका, इन चीजों को खाने से मिलेगा गजब का फायदा

Increase stamina Symptoms causes and prevention of stamina deficiency stamina booster food brmp | Increase stamina: पुरुषों का स्टेमिना बढ़ाने का रामबाण तरीका,...

जानलेवा बीमारी के कारण बीच में ही छूट गई थी Johnny Lever के बेटे की पढ़ाई, शरीर में दिखने लगते हैं ऐसे लक्षण

comedian johnny levers son jessey lever was suffered from throat cancer know its symptoms and stages samp | जानलेवा बीमारी के कारण बीच...

The best Cyber Monday deals happening now

Black Friday is technically over, but many of the same deals have carried over into Cyber Monday — plus a few...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe