Saturday, May 8, 2021

Alien Crystal Ball: करोड़ों में बिक रहे हैं ‘एलियन पत्थर’, रईसों की जेब पड़ी ढीली, जानिए क्यों है इतना महंगा


नई दिल्ली: उल्कापिंड (Meteorite In Crystal Ball) और अंतरिक्षीय पत्थरों (Space stones) के टुकड़ों से बनाए गए क्रिस्टल बॉल (Crystal Ball) की नीलामी की जा रही है. इसकी नीलामी मशहूर ऑक्शन हाउस क्रिस्टीज (Christie’s) कर रही है. आपको बता दें कि नीलामी की ऑनलाइन प्रक्रिया 5 फरवरी से शुरू हो चुकी है और 23 फरवरी 2021 तक चलेगी. तो अगर आप भी इसे खरीदना चाहते हैं तो क्रिस्टीज की साइट पर जाकर प्रयास कर सकते हैं. इससे  पहले जानिए इस पत्थर के पीछे के विज्ञान को.

कैसे बना है ये पत्थर 

गौरतलब है कि इस क्रिस्टल बॉल में ज्यादातर पत्थर सिमचैन उल्कापिंड (Seymchan Meteorite) के हैं. ये उल्कापिंड साइबेरिया (Siberia) में जून 1967 को गिरा था. इसके अलावा इसमें कई बेशकीमती एलियन पत्थर भी लगे हैं. एलियन पत्थर को ये नाम इसलिए दिया गया है कि ये उस जगह से आए हैं जिसकी जानकारी या तो इंसानों को है नहीं, या फिर कम है.

ये भी पढ़ें- Astra Mark 2 Missile: भारत ने तैयार किया खतरनाक Missile! रेंज, स्पीड और मारक क्षमता जानकर दंग रह जाएंगे आप

उल्कापिंड के टुकड़ों से बना बॉल

इसके अलावा इस क्रिस्टल बॉल में 30 जून 1957 में ब्राजील के इबित्रा (Ibritra of Brazil) में गिरे उल्कापिंड के टुकड़े (Meteorite In Crystal Ball) लगे हैं. साथ ही इसमें माली के सहारा रेगिस्तान (Sahara Desert) में 16 इंट के उल्कापिंड के टुकड़े भी लगे हैं. इस उल्कापिंड का वजन 2 किलोग्राम था. ऑक्शन हाउस क्रिस्टीज (Christie’s) का मानना है कि इस क्रिस्टल बॉल की बोली 350,000 डॉलर्स यानी 2.54 करोड़ रुपए तक जा सकती है. फिलहाल इसकी बोली कुछ डॉलर्स से शुरू होकर अभी 70 हजार डॉलर्स यानि करीब 50.49 लाख रुपए पर टिकी है.

क्या कहता है विज्ञान 

क्रिस्टीज के साइंस एंड नेचुरल हिस्ट्री डिपार्टमेंट (Science and Natural History Department) के प्रमुख जेम्स हिसलोप ने बताया कि उल्कापिंडों के पत्थरों को चार S पर मापा जाता है. पहला Size, दूसरा Shape, तीसरा Story और चौथा Science. अंतरिक्ष से गिरने वाले बड़े पत्थर छोटे पत्थरों की तुलना में ज्यादा कीमती माने जाते हैं. क्योंकि उनमें से प्रचुर मात्रा में रिसर्च के लिए मैटेरियल मिलता है. ये महंगे बिकते भी हैं.

ये भी पढ़ें- Ice Age Mystery: वैज्ञानिकों ने खोला रहस्य! कई सालों तक धरती ओढ़े रही बर्फ की चादर, वजह कर देगी हैरान

कैसे की जाती है टुकड़ों की जांच 

नीलामी से पहले द मेटियोरिटिकल सोसाइटी (The Meteoritical Society) द्वारा इन टुकड़ों की जांच की गई है. ये जांच इसलिए की गई ताकि ये पुख्ता किया जा सके कि ये ओरिजिनल एलियन पत्थर हैं. जिन्हें इस क्रिस्टल बॉल में गढ़ा गया है. इन पत्थरों को जांचने के लिए हीरे को जांचने जैसा पैमाना तय किया गया है. यानी 4 पैमाना- पहला Carat, दूसरा Color, तीसरा Clarity और चौथा Cut. वहीं उल्कापिंडों के पत्थरों को चार S पर मापा जाता है.  Size, Shape, Story और  Science

इसलिए बढ़ जाती है इनकी कीमत 

दरअसल, इनसे ये पता चलता है कि हमारा सूरज, चंद्रमा, अन्य ग्रह कैसे बना और इसलिए इनकी कीमत ज्यादा होती है. अगर कोई दुर्लभ पत्थर हाथ लग जाए तो आप उसे बेचकर करोड़पति भी हो सकते हैं. विज्ञान कहता है कि हर मेटेयोराइट्स के अंदर एक नया रहस्य छिपा होता है. बस उसे समझने की जरूरत होती है.

ये भी पढ़ें – New solar system: वैज्ञानिकों की जगी उम्मीद, Teenage Sun दे सकते हैं पृथ्वी और सौरमंडल के इतिहास की जानकारी

क्यों दिया गया है आकार 

इस क्रिस्टल बॉल में उल्कापिंड के पत्थर भी लगे हैं जो साइबेरिया के सिखोटे एलिन पहाड़ पर 12 फरवरी 1947 में गिरा था. इसमें कई पत्थर टेढ़ा और अजीबो-गरीब आकार का भी होता है. लेकिन जब ये वायुमंडल में प्रवेश करता है तो घर्षण की वजह से बॉल के आकार का हो जाता है. ऐसे बॉल्स कि नीलामी नहीं की जा सकती है इसलिए क्रिस्टीज ने एक क्रिस्टल बॉल में ऐसे पत्थरों को जड़ा है. 

विज्ञान से जुड़ी अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

LIVE TV





Source link

MORE Articles

Daily Crunch: A huge fintech exit as the week ends – TechCrunch

To get a roundup of TechCrunch’s biggest and most important stories delivered to your inbox every day at 3 p.m. PDT, subscribe here. Our...

Court docs detail Apple's app review process: 500+ people review ~100K apps/week, app rejection rate is less than 40%, less than 1% of rejections...

Filipe Espósito / 9to5Mac: Court docs detail Apple's app review process: 500+ people review ~100K apps/week, app rejection rate is less than 40%,...

కోవిన్‌కు 4 డిజిటల్ సెక్యూరిటీ కోడ్: కరోనా వ్యాక్సిన్ రిజిస్ట్రేషన్ కోసం ఏం చేయాలంటే.?

న్యూఢిల్లీ: దేశ వ్యాప్తంగా కరోనావైరస్ విజృంభిస్తున్న నేపథ్యంలో కేంద్ర, రాష్ట్ర ప్రభుత్వాలు.. ఆ మహమ్మారిని కట్టడి చేసేందుకు అనేక చర్యలు చేపడుతున్నాయి. పెద్ద ఎత్తున టీకా కార్యక్రమం చేపడుతున్నాయి. ప్రజలందరికీ వ్యాక్సిన్ వేయడమే...

తెలంగాణలో మరో మూడు రోజులపాటు వర్షాలు, ఈదురుగాలులు, వడగండ్ల వానలు కూడా

మూడ్రోజులపాటు తెలంగాణలో వర్షాలు.. ఈదురుగాలులు ఉత్తర కర్ణాటక పరిసర ప్రాంతాల్లో సముద్ర మట్టానికి 0.9 కిలోమీటర్ల ఎత్తులో ఉపరితల ఆవర్తనం ఏర్పడింది. దీనికితోడు సముద్ర మట్టానికి...

carrot juice: कई बीमारियों को `गया-गुजरा​` कर देगा गाजर का juice, जानिए 10 गजब फायदे

नई दिल्ली: आज हम आपके लिए लेकर आए हैं गाजर के जूस के फायदे. स्किन का ख्याल रखने के साथ गाजर खाने से...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe