Thursday, May 6, 2021

Coronavirus छूने से नहीं फैलता, US की नई रिसर्च में दावा


वाशिंगटन: साल 2021 में जब कोरोना वायरस (Coronavirus) बहुत तेजी से फैल रहा था, तब हालत ये थी कि कुछ भी छूने से कोरोना संक्रमण का खतरा था. लेकिन अब एक नई स्टडी में दावा किया गया है कि छूने से कोरोना फैलने का खतरा कम है. हालांकि इसका मतलब ये बिल्कुल नहीं है कि आप मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का पालन करना और सैनिटाइजेशन करना बंद कर दें. वायरस से बचाव के ये सबसे सटीक उपाय हैं.

क्या है सेंटर्स फॉर डिजीस कंट्रोल का दावा?

अमेरिका (United States) में की गई एक नई रिसर्च में दावा किया गया है कि किसी सतह को छूने से अब कोविड-19 (Covid-19) संक्रमण फैलने का खतरा कम है. वह सतह भले ही संक्रमित ही क्यों न हो. सेंटर्स फॉर डिजीस कंट्रोल (Centers For Disease Control) के मुताबिक, अब किसी सतह को छूने से संक्रमित होने की आशंका 10 हजार लोगों में से सिर्फ एक की है.

चीज को छूने को लेकर नई गाइडलाइंस

बता दें कि सीडीसी (CDC) ने किसी चीज को छूने को लेकर नई गाइडलाइंस जारी की हैं. एक्सपर्ट्स ने पिछले साल एडवाइजरी जारी करके कहा था कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट, सुपरमार्केट और अन्य जगहों पर किसी चीज को न छुएं. अगर छूना भी पड़े तो हाथों तुरंत को सैनिटाइज करें. नई रिसर्च में पता चला है कि चीजों को छूने से ये खतरा कम है.

इन जगहों पर संक्रमण का खतरा ज्यादा

सीडीसी (CDC) के अनुसार, लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण अब बंद, भीड़ वाली और खराब वेंटिलेशन वाली जगहों पर ज्यादा हो रहा है. अगर संक्रमित लोग ऐसी जगहों पर ज्यादा हैं तो अन्य लोगों के कोरोना संक्रमित होने का खतरा भी ज्यादा होगा. सेंटर्स फॉर डिजीस कंट्रोल (Centers For Disease Control) की डायरेक्टर डॉक्टर रोशेल वालेंस्की के मुताबिक, अलग-अलग सतहों को छूने से लोग संक्रमित हो सकते हैं. लेकिन इसकी संभावना अब बहुत कम है.

ये भी पढ़ें- एलन मस्क की गर्लफ्रेंड ने बनवाया ‘एलियन टैटू’, शेयर की टॉपलेस फोटो

वर्जीनिया टेक यूनिवर्सिटी (Virginia Tech University) में एयरबॉर्न डिजीस (Airborne disease) की एक्सपर्ट लिंसी ने कहा कि हमें इस बारे में बहुत दिनों से मालूम है. लेकिन लोग फिर भी घर और बाहर की चीजों को सैनिटाइज करने में जुटे हैं. जबकि किसी सतह को छूने से कोरोना संक्रमण का खतरा कम है. ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि अब तक सबूत नहीं मिले हैं कि किसी संक्रमित सतह को छूने से कोई बीमार पड़ा.

हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि यह बात साफ हो चुकी है कि कोविड-19 हवा के जरिए ज्यादा फैल रहा है. दरअसल हवा में कोरोना संक्रमितों के नाक और मुंह से निकली बूंदें मौजूद हैं, जिससे दूसरे लोग संक्रमित हो रहे हैं.

ये भी पढ़ें- साइंस का कमाल! बंदर खेलने लगा वीडियो गेम, जानिए कैसे हुआ ये मुमकिन

रटगर्स यूनिवर्सिटी (Rutgers University) के माइक्रोबायोलॉजिस्ट (Microbiologist) गोल्डमैन ने बताया कि किसी सतह से कोरोना संक्रमण फैलने का कोई वैज्ञानिक कारण अभी तक नहीं मिला है. इसकी आशंका बेहद कम है. कोरोना वायरस हवा के जरिए ही शरीर में प्रवेश करता है. यह छूने से फैलने वाला वायरस नहीं है.

LIVE TV





Source link

MORE Articles

Algorithmic Architecture: Using A.I. to Design Buildings | Digital Trends

Designs iterate over time. Architecture designed and built in 1921 won’t look the same as a building from 1971 or from 2021. Trends...

ఏపీలో 20వేలకుపైనే కరోనా కేసులు : ఆ ఒక్క జిల్లాలోనే 3వేలకుపైగా, 1.82లక్షలకు యాక్టివ్ కేసులు

ఏపీలో కొత్తగా 21,954 కరోనా కేసులు, 72 మరణాలు తాజాగా నమోదైన 21,954 కరోనా కేసులతో రాష్ట్రంలో మొత్తం కరోనా కేసుల సంఖ్య 12,28,186కి చేరింది. గత...

HEALTH NEWS: कद्दू के बीजों का पुरुष ऐसे करें सेवन, फिर देखें कमाल!

नई दिल्ली: अगर आप कद्दू खाते होंगे तो उसके बीजों का क्या करते हैं? कहीं फेंक तो नहीं देते? यदि फेंक देते हैं,...

త్వరపడండి..హోండా యాక్టివాపై అదిరిపోయే డిస్కౌంట్: పరిమిత కాలం మాత్రమే

ఇది మాత్రమే కాకుండా హోండా యాక్టివా 6 జి యొక్క 20 వ యానివర్సరీ ఎడిషన్ కూడా అందుబాటులో ఉంది. దీనిని మార్కెట్లో ప్రస్తుతం 69,343 రూపాయలకు...

30 జిల్లాల్లో ఏడు మనవే.. నవరత్నాలు ఎందుకు, మారెడ్డి అంటూ రఘురామ చిందులు

చీమ కుట్టినట్లయినా లేదు.. కరోనా విషయంలో ఆంధ్రప్రదేశ్ ప్రభుత్వానికి చీమ కుట్టినట్టయినా లేదని చెప్పారు. వైరస్ విషయంలో ప్రభుత్వం తీరు దున్నపోతు మీద వాన పడ్డట్టు...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe