Saturday, May 8, 2021

Deep Space Food Challenge: NASA का चैलेंज! अंतरिक्ष में भोजन उत्पादन के नए Unique idea दें और पाएं 5 लाख डॉलर


नई दिल्ली: अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) अपने दूरगामी लक्ष्य मंगल (Mars) के लिए मानव अभियान को लेकर सबसे ज्यादा सक्रिय है. नासा फिलाहाल अपने आर्टिमिस मिशन (Artemis Mission) की तैयारी में है. नासा के सामने मंगल (Mars) और उसके जैसे लंबे अंतरिक्ष अभियानों (Long Space Missions) के लिए एक बड़ी चुनौती एस्ट्रोनॉट (Astronaut) के लिए भोजन की व्यवस्था करना है. नासा ने इस समस्या के समाधान के लिए लोगों के सामने एक चैलेंज रखा है. नासा ने इसके लिए 5 लाख डॉलर (5 Million Dollars) का पुरस्कार रखा है.

बेहद चुनौतीपूर्ण हैं मंगल यात्रा

गौरतलब है कि पृथ्वी (Earth) से मंगल (Mars) की दूरी 11.4 करोड़ किलोमीटर है. इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (International Space Station) में कई तरह के पौधे उगाए गए हैं जो लंबी अंतरिक्ष यात्रा के दौरान भी उगाए जा सकते हैं और इस्तेमाल किए जा सकते हैं. लेकिन मंगल जैसे ग्रह के लिए यात्रा बहुत दूर की और लंबी होगी जहां सामान ले जाना यान के भार को बढ़ा देगा. ऐसे में इस बड़ी चुनौती का एकमात्र उपाय है, यात्रा के दौरान भोजन की उत्पादन क्षमता विकसित करना.

नासा ने लोगों को दिया चैलेंज

भोजन की इस चुनौती से उबरने के लिए नासा ने व्यवसाई, कॉलेज के छात्रों, शौकिया निवेशकों और अन्य लोगों के लिए एक चैलेंज रखा है. होस्टन में नासा के जॉनसन स्पेस सेंटर (Johnson Space Center) पर एडवांस्ड फूड टेक्नोलॉजी (Advanced Food Technology) की प्रमुख वैज्ञानिक ग्रैस डगलस ने द जर्नल ऑफ न्यूट्रीशन (The Journal of Nutrition by Grace Douglas) के लेख में लंबे अंतरिक्ष अभियानों के लिए फूट तकनीकी की जरूरतों की रूपरेखा भी बताई.

ये भी पढ़ें- Farfarout Planetoid: खगोलविदों ने खोजा सौरमंडल में सबसे दूर का पिंड ‘Farfarout’, जानिए क्या है इसकी खासियत

भोजन एक प्रमुख चुनौती

डगलस और उनके साथ के लेखकों के अनुसार, अंतरिक्ष में सबसे अहम मुद्दा जीवन कायम रखना होगा. मानव इतिहास में खोजकर्ताओं ने यह देखने लिए यात्राएं की हैं कि क्षितिज के आगे क्या है, लेकिन वास्तव में आहार और पोषण की नाकामी की वजह से वापस नहीं लौटे. मंगल (Mars) पर जाने के लिए दो साल का समय लग सकता है. इसके लिए पृथ्वी (Earth) से भोजन ले जाने मुफीद नहीं होगा.

खाना बनाने में मुश्किल

दरअसल स्पेस में मुश्किल यह है कि पृथ्वी पर खाना बनाने की जिन प्रक्रियाओं पर हम निर्भर हैं उसके लिए बहुत से कारक जिम्मेदार हैं. जैसे गुरुत्व, वायुमंडल, वायुमंडलीय दाब, और यहां तक कि कुछ सूक्ष्मजीवी भी. अंतरिक्ष यानों में इनकी जगह माइक्रोग्रैविटी, संसाधनों की कमी, कैबिन के दबाव में उतार चढ़ाव, अनियंत्रित विकिरण जैसे कारक भोजन तैयार करने की प्रक्रिया को प्रभावित करते हैं.

ये भी पढ़ें- Life On Mars: मंगल के वायुमंडल में दिखी HCl गैस की परत, लाल ग्रह पर जीवन की फिर से जगी उम्मीद!

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में भोजन

अब तक अंतरिक्ष में भोजन होता रहा है वह पहले से पैक किए हुए भोजन को गर्म करने या फिर उसमें पानी मिलाने से तैयार किया जाता था. जब पृथ्वी से आए ताजा उत्पाद उसमें मिलते हैं तो वह खाने लायक बन जाता है. लेकिन यह तरीका मंगल के लिए दो साल की यात्रा के लिए उपयोगी साबित नहीं होगा. डगलस और उनके साथी एक ऐसे समाधान की तलाश में है जिससे मंगल यात्रियों के लिए सुरक्षित, स्थायी, रुचिकर और विश्वसनीय भोजन मिल सके जो कम से कम साधनों, पर्यावरण बाधाओं, और कम कचड़ा पैदा करने वाला हो. साथ ही इसमें यात्रियों के सूक्ष्मपोषण की सभी जरूरतों की पूर्ति भी हो सके.

मानसिक स्वास्थ्य भी चुनौती

मंगल यात्रियों के मानसिक स्वास्थ्य को कायम कर रखना भी नासा के लिए एक बड़ी चुनौती होगी. ऐसे मिशन में तनाव, कार्य का बोझ, और एकांत से पैदा हुई समस्याओं से निपटना भी यात्रियों के लिए एक बड़ी चुनौती होगी. स्वादिष्ट खाना ही काफी नहीं होगा इसमें विविधता की भी जरूरत होगी.

ये भी पढ़ें- NASA की Chandra X-ray Observatory ने खोजा नया पिंड, जानिए क्यों और कितना खास है Pulsar

क्राउडसोर्सिंग समाधान कि तलाश में नासा 

इस चुनौती से निपटने के लिए नासा अपने डीप स्पेस फूड चैलेंज (Deep Space Food Challenge) के जरिए क्राउडसोर्सिंग समाधान (Crowdsourcing Solution) तलाश रहा है. नासा ने इसके लिए 5 लाख डॉलर (5 Million Dollars) का पुरस्कार रखा है. डगलस का कहना है कि नासा के पास वैसे तो इस क्षेत्र में जरूरी जानाकरी और क्षमता है, लेकिन नासा नवाचार चाहता है. अलग अलग क्षेत्रों के लोग इसमें बेहतरीन और सटीक समाधान सुझा सकते हैं.

विज्ञान से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

LIVE TV





Source link

MORE Articles

ఎన్ఎస్ యూఐ మెరుపు ధర్నా.!మంత్రి మల్లారెడ్డి వైద్య కళాశాల వద్ద రచ్చరచ్చ.!

చెరువు భూములు కబ్జా చేసి హాస్పిటల్ నిర్మాణం.. మల్లారెడ్డి ఆసుపత్రిని వెంటనే ఉచిత కరోనా వైద్య హాస్పిటల్ గా మార్చాలని ఎన్ఎస్ యూఐ నాయకులు డిమాండ్...

తెలంగాణలో కొత్తగా 5186 కరోనా కేసులు.. మరో 38 మంది మృతి…

తెలంగాణలో కరోనా కేసులు కాస్త తగ్గుముఖం పడుతున్నాయి. గడిచిన 24 గంటల్లో 5186 కొత్త కరోనా కేసులు నమోదయ్యాయి. మరో 38 మంది కరోనాతో ప్రాణాలు విడిచారు. ఈ మేరకు రాష్ట్ర వైద్యారోగ్యశాఖ...

वजन कम करने से लेकर आंखों तक के लिए फायदेमंद है धनिया का पानी, इस तरह करें सेवन, मिलेंगे 12 गजब के फायदे

नई दिल्ली: आज हम आपके लिए लेकर आए हैं धनिया के पानी से होने वाले फायदे..धनिया हर घर के किचन में आराम से...

అడ్వకేట్ వామన్‌రావు దంపతుల హత్య కేసులో మాజీ మంత్రి పాత్ర… తెర పైకి సంచలన ఆరోపణలు…

కిషన్ రావు సంచలన ఆరోపణలు... నిజానికి చావు బతుకుల్లో కొట్టుమిట్టాడుతూ ఆస్పత్రిలో చేరిన తర్వాత వామన్‌రావుకు వైద్యం అందలేదని కిషన్ రావు ఆరోపించారు. ఆయనకు మందులు...

Illegal affair: పబ్లిక్ లో ఫ్లాస్మా టీవీలో రాసలీలల వీడియో, గుండు కొట్టి ఊరేగింపు, అవమానంతో!

ఆమెకు 23 ఏళ్లు త్రిపురలోని సబ్రూమ్ జిల్లాలోని బేటగా గ్రామంలో 23 ఏళ్ల మహిళ నివాసం ఉంటున్నది. చూడటానికి ఎర్రగా, సన్నగా, నాజుకుగా ఉన్న ఆమె మీద...

నారా లోకేష్ పై క్రిమినల్ కేసు నమోదు.. లోకేష్ ఆ ట్వీట్ పై అనంతలో వైఎస్సార్సీపీ నేత ఫిర్యాదు

అనంత‌పురం జిల్లా రాయ‌దుర్గం టిడిపి కార్య‌క‌ర్త మారుతి‌, సోష‌ల్‌మీడియా వేదిక‌గా ఎమ్మెల్యే అవినీతి అరాచ‌కాల‌ను ప్ర‌శ్నిస్తున్నార‌ని గూండాల‌తో దాడి చేయించారు.(1/3) pic.twitter.com/T8aedmlfm6 — Lokesh...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe