Sunday, August 1, 2021

Einsteinium Element: आइंस्टाइन से जुड़े रहस्यमयी तत्व का आखिरकार खुल गया राज, जानिए क्या है ये नई रहस्यमयी धातु


नई दिल्ली: विज्ञान की दुनिया में लगातार प्रयोग चलते रहते हैं. अब बर्कले लैब (Berkeley Lab) में वैज्ञानिकों की टीम ने एक नई धातु की खोज की है जिसे वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) के नाम पर आइंस्टीनियम (Einsteinium) नाम दिया गया. ये धातु सबसे पहले हाइड्रोजन बम (Hydrogen Bomb) के मलबे में साल 1952 में मिली थी. लेकिन अब जाकर इसके सभी रहस्य खुल गए हैं. आइए जानते हैं इस नवीन धातु के बारे में.

प्रशांत महासागर में पहला हाइड्रोजन बम विस्फोट

गौरतलब है कि 1 नवंबर साल 1952 को प्रशांत महासागर (Pacific Ocean) में पहला हाइड्रोजन बम विस्फोट किया गया था. दरअसल ये विस्फोट एक परीक्षण के दौरान किया गया था. इस विस्फोट से निकले मलबे में एक अलग और अजीब तरह की धातु मिली थी. बेहद रेडियोएक्टिव इस धातु के बारे में तब से अब तक लगातार जानने की कोशिश हो रही थी. हालांकि ये काफी मुश्किल हो रहा था क्योंकि तत्व बहुत ज्यादा सक्रिय था.

ये भी पढ़ें- Asteroid Apophis Image: धरती के बेहद करीब आ चुका है ‘तबाही का देवता’, देखिए ऐस्‍टरॉइड अपोफिस की पहली तस्‍वीर

नागासाकी में हुए हाइड्रोजन बम की धमक से भी 500 गुना तेज

वैज्ञानिक मैंगजीन नेचर में एक अध्ययन सामने आया है. इस अध्ययन में पहली बार इस धातु के बारे में कुछ बातें साझा की गईं. इसमें 50 के दशक में हुए शोध से लेकर अब तक की जानकारियां दी गई हैं. गौरतलब है कि दक्षिण प्रशांत महासागर के एक छोटे से द्वीप Elugelab पर हाइड्रोजन बम का विस्फोट किया गया. इसकी धमक दूसरे विश्व युद्ध के दौरान नागासाकी में हुए हाइड्रोजन बम की धमक से भी 500 गुना तेज थी.

आइंस्टीनियम धातु 

इस विस्फोट के बाद इसके मलबे को वैज्ञानिकों ने इकट्ठा किया और कैलीफोर्निया के बर्कले की लैब में परीक्षण के लिए भेजा. इस दौरान बड़े-बड़े वैज्ञानिकों की टीम ने मलबे में एक नई धातु पाई, जिसमें 200 से ज्यादा ऐटम महीने भर के भीतर खोज लिए गए. लेकिन इससे ज्यादा जानकारी हासिल नहीं हो सकी. इस बीच इस रहस्यमयी और अज्ञात धातु को महान वैज्ञानिक आइंस्टीन के नाम पर आइंस्टीनियम कहा गया.

ये भी पढ़ें- NASA ने जारी की मंगल पर उतरते रोवर की अद्भुत तस्वीर, ये PHOTOS देख वैज्ञानिक भी हुए हैरान

गामा किरणों से होता है कैंसर 

ये धातु बहुत ज्यादा रेडियोएक्टिव थी इसलिए इस पर प्रयोग नहीं हो पा रहा था. गौरतलब है कि रेडियोएक्टिव पदार्थ स्वयं विघटित होता है. इससे जो विकिरण निकलती है, वो बहुत हानिकारक होती है. इससे इस धातु पर काम कर रहे वैज्ञानिकों की जान पर खतरा हो सकता था. इससे निकलने वाले गामा किरण से कैंसर का खतरा रहता है और अलग किसी तरह की प्रतिक्रिया हुई तो जान जाने का भी खतरा रहता है.

सावधानी से शुरू हुआ प्रयोग 

वैज्ञानिकों ने धातु के हानिकारक प्रभाव को देखते हुए 250 नैनोमीटर से भी कम मात्रा लेकर उसपर लैब में काफी सावधानी से प्रयोग शुरू किया. आपको बता दें कि ये मात्रा इतनी कम थी जो नग्न आंखों से देखी नहीं जा सकती. हाइड्रोजन विस्फोट के बाद धातु की मात्रा बहुत कम थी और इसे बनाने की कोशिश में लगभग 9 साल लगे. अब इतने सालों की मेहनत के बाद वैज्ञानिकों को ये समझ आ रहा है कि शायद ये धातु पहले भी धरती पर रही होगी लेकिन बहुत ज्यादा क्रियाशील होने के कारण ये गायब हो गई.

ये भी पढ़ें- Dhruvastra and Helina Missile: पलक झपकते ही दुश्मन देश के टैंक को ध्वस्त कर देगा ध्रुवास्त्र मिसाइल, जल्द ही होगा सेना में शामिल

चांदी के रंग का धातु 

इसे देखने वाले वैज्ञानिकों ने इसे चांदी के रंग का और काफी नर्म बताते थे. साथ ही अंधेरे में ये नीले रंग का दिखता है लेकिन तुरंत प्रतिक्रिया के कारण और बेहद खतरनाक होने के कारण इसे देखना भी संभव नहीं था. 

आइंस्टीनियम नाम की इस धातु पर प्रयोग अब भी चल रहा है, हालांकि इसके उपयोग के बारे में अब तक खास जानकारी नहीं मिल पाई है. केमिकल वर्ल्ड (Chemical World) ने अपने पॉडकास्ट में कहा था कि इस रेडियोएक्टिव धातु का भविष्य में शायद ही कोई इस्तेमाल हो सके. 

विज्ञान से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

LIVE TV





Source link

MORE Articles

Upcoming AMD CPU with RDNA1 graphics may be coming, spotted in Linux code

Rumor mill: AMD appears to be readying another APU (accelerated processing...

వావ్.. ఓకేసారి 1000 మంది వీడియో కాల్.. టెలీగ్రామ్ నయా ఫీచర్

ప్రైవసీ పాలసీ వల్ల.. ఇటీవల కొత్త ప్రైవసీ పాలసీ కారణంగా యూజర్లు వాట్సాప్‌కు దూరం అవుతున్నారు. ప్రత్యామ్నయంగా టెలిగ్రామ్‌ యాప్‌ యూజ్ చేయడానికి ఇంట్రెస్ట్ చూపిస్తున్నాన్నారు. దీంతో...

Wife: రాత్రి హ్యాపీగా ఎంజాయ్, పగలు పంచాయితీలు, భార్యను నరికి చంపిన భర్త, కొడవలి ఎత్తుకుని !

పెళ్లి వయసు వచ్చిన పిల్లలు ఢిల్లీలోని మంగోలిపురలో సమీర్ (45), సబానా (40) దంపతులు నివాసం ఉంటున్నారు. సమీర్, సబానా దంపతులకు 21 సంవత్సరాలు, 17 సంవత్సరాల...

The Jodie Whittaker era of Doctor Who has been far from vintage, but the show’s decline started years ago

After months of rumors, it was no surprise when the BBC finally confirmed on July 29 that Doctor Who star Jodie Whittaker and...

How to Silence Notifications With Windows 10’s Focus Assist

You're in the middle of browsing a website, creating a document, or playing a game. Then Windows 10 taps...

सेहत के लिए रोज एक उबला अंडा है बेहद फायदेमंद, मिलते हैं जबरदस्त लाभ, बस जान लीजिए सेवन का सही टाइम

benefits of boiled egg eating in breakfast: दिन की शुरूआत हमें हेल्दी नाश्ते के साथ करनी चाहिए, जिससे दिनभर के लिए शरीर को...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe