Friday, March 5, 2021

Einsteinium Element: आइंस्टाइन से जुड़े रहस्यमयी तत्व का आखिरकार खुल गया राज, जानिए क्या है ये नई रहस्यमयी धातु


नई दिल्ली: विज्ञान की दुनिया में लगातार प्रयोग चलते रहते हैं. अब बर्कले लैब (Berkeley Lab) में वैज्ञानिकों की टीम ने एक नई धातु की खोज की है जिसे वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) के नाम पर आइंस्टीनियम (Einsteinium) नाम दिया गया. ये धातु सबसे पहले हाइड्रोजन बम (Hydrogen Bomb) के मलबे में साल 1952 में मिली थी. लेकिन अब जाकर इसके सभी रहस्य खुल गए हैं. आइए जानते हैं इस नवीन धातु के बारे में.

प्रशांत महासागर में पहला हाइड्रोजन बम विस्फोट

गौरतलब है कि 1 नवंबर साल 1952 को प्रशांत महासागर (Pacific Ocean) में पहला हाइड्रोजन बम विस्फोट किया गया था. दरअसल ये विस्फोट एक परीक्षण के दौरान किया गया था. इस विस्फोट से निकले मलबे में एक अलग और अजीब तरह की धातु मिली थी. बेहद रेडियोएक्टिव इस धातु के बारे में तब से अब तक लगातार जानने की कोशिश हो रही थी. हालांकि ये काफी मुश्किल हो रहा था क्योंकि तत्व बहुत ज्यादा सक्रिय था.

ये भी पढ़ें- Asteroid Apophis Image: धरती के बेहद करीब आ चुका है ‘तबाही का देवता’, देखिए ऐस्‍टरॉइड अपोफिस की पहली तस्‍वीर

नागासाकी में हुए हाइड्रोजन बम की धमक से भी 500 गुना तेज

वैज्ञानिक मैंगजीन नेचर में एक अध्ययन सामने आया है. इस अध्ययन में पहली बार इस धातु के बारे में कुछ बातें साझा की गईं. इसमें 50 के दशक में हुए शोध से लेकर अब तक की जानकारियां दी गई हैं. गौरतलब है कि दक्षिण प्रशांत महासागर के एक छोटे से द्वीप Elugelab पर हाइड्रोजन बम का विस्फोट किया गया. इसकी धमक दूसरे विश्व युद्ध के दौरान नागासाकी में हुए हाइड्रोजन बम की धमक से भी 500 गुना तेज थी.

आइंस्टीनियम धातु 

इस विस्फोट के बाद इसके मलबे को वैज्ञानिकों ने इकट्ठा किया और कैलीफोर्निया के बर्कले की लैब में परीक्षण के लिए भेजा. इस दौरान बड़े-बड़े वैज्ञानिकों की टीम ने मलबे में एक नई धातु पाई, जिसमें 200 से ज्यादा ऐटम महीने भर के भीतर खोज लिए गए. लेकिन इससे ज्यादा जानकारी हासिल नहीं हो सकी. इस बीच इस रहस्यमयी और अज्ञात धातु को महान वैज्ञानिक आइंस्टीन के नाम पर आइंस्टीनियम कहा गया.

ये भी पढ़ें- NASA ने जारी की मंगल पर उतरते रोवर की अद्भुत तस्वीर, ये PHOTOS देख वैज्ञानिक भी हुए हैरान

गामा किरणों से होता है कैंसर 

ये धातु बहुत ज्यादा रेडियोएक्टिव थी इसलिए इस पर प्रयोग नहीं हो पा रहा था. गौरतलब है कि रेडियोएक्टिव पदार्थ स्वयं विघटित होता है. इससे जो विकिरण निकलती है, वो बहुत हानिकारक होती है. इससे इस धातु पर काम कर रहे वैज्ञानिकों की जान पर खतरा हो सकता था. इससे निकलने वाले गामा किरण से कैंसर का खतरा रहता है और अलग किसी तरह की प्रतिक्रिया हुई तो जान जाने का भी खतरा रहता है.

सावधानी से शुरू हुआ प्रयोग 

वैज्ञानिकों ने धातु के हानिकारक प्रभाव को देखते हुए 250 नैनोमीटर से भी कम मात्रा लेकर उसपर लैब में काफी सावधानी से प्रयोग शुरू किया. आपको बता दें कि ये मात्रा इतनी कम थी जो नग्न आंखों से देखी नहीं जा सकती. हाइड्रोजन विस्फोट के बाद धातु की मात्रा बहुत कम थी और इसे बनाने की कोशिश में लगभग 9 साल लगे. अब इतने सालों की मेहनत के बाद वैज्ञानिकों को ये समझ आ रहा है कि शायद ये धातु पहले भी धरती पर रही होगी लेकिन बहुत ज्यादा क्रियाशील होने के कारण ये गायब हो गई.

ये भी पढ़ें- Dhruvastra and Helina Missile: पलक झपकते ही दुश्मन देश के टैंक को ध्वस्त कर देगा ध्रुवास्त्र मिसाइल, जल्द ही होगा सेना में शामिल

चांदी के रंग का धातु 

इसे देखने वाले वैज्ञानिकों ने इसे चांदी के रंग का और काफी नर्म बताते थे. साथ ही अंधेरे में ये नीले रंग का दिखता है लेकिन तुरंत प्रतिक्रिया के कारण और बेहद खतरनाक होने के कारण इसे देखना भी संभव नहीं था. 

आइंस्टीनियम नाम की इस धातु पर प्रयोग अब भी चल रहा है, हालांकि इसके उपयोग के बारे में अब तक खास जानकारी नहीं मिल पाई है. केमिकल वर्ल्ड (Chemical World) ने अपने पॉडकास्ट में कहा था कि इस रेडियोएक्टिव धातु का भविष्य में शायद ही कोई इस्तेमाल हो सके. 

विज्ञान से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

LIVE TV





Source link

MORE Articles

చంద్రబాబుకు రాజధాని సెగ -విశాఖలో చేదు అనుభవం -జగన్ దెబ్బకు నగరాలు పతనం

చంద్రబాబుకు రాజధాని సెగ.. రాజధానిని అమరావతిలోనే కొనసాగించాలని ప్రతిపక్ష టీడీపీ పట్టుపడుతుండటం, మూడు రాజధానుల దిశగా జగన్ సర్కారు తీసుకున్న పలు నిర్ణయాలపై తెలుగు తమ్ముళ్లు...

మంత్రి సెక్స్ టేప్ వివాదం… దాని వెనుక రూ.5 కోట్లు డీల్… బాంబు పేల్చిన మాజీ సీఎం కుమారస్వామి…

'రమేష్ అన్నా జిందాబాద్...' రమేష్ జర్కిహోళి ప్రాతినిధ్యం వహిస్తున్న గోకక్ నియోజకవర్గంలో ఆయన మద్దతుదారుల నిరసనలు కొనసాగుతూనే ఉన్నాయి. వరుసగా రెండో రోజు అక్కడ అప్రకటికత...

What Is Magisk? How To Install Magisk And Root Android?

The open-source nature of Android OS has given rise to communities filled with Android enthusiasts. From Custom ROMs to various MODs; you name...

ముఖేష్ అంబానీకి బాంబు బెదిరింపు కేసులో ట్విస్ట్ .. స్కార్పియో యజమాని అనుమానాస్పద మృతి

ముఖేష్ అంబానీకి బాంబు బెదిరింపుకు వాడిన స్కార్పియో వాహనం మన్సుఖ్ హిరెన్ ది గా గుర్తింపు ఇటీవల ఆంటిలియా సమీపంలో జెలిటిన్ స్టిక్స్ ఉన్న స్కార్పియో...

Microsoft deepens Teams ties with Dynamics 365

Microsoft this week unveiled deeper integrations between Teams and Dynamics 365 as the company moves to make it easier for sales and customer service...

क्या आपको भी हो गया है कंप्यूटर विजन सिंड्रोम? इन लक्षणों से करें इस बीमारी की पहचान

नई दिल्ली: कंप्यूटर विजन सिंड्रोम- नाम सुनकर ऐसा लग रहा होगा कि यह कंप्यूटर पर अधिक देर तक काम करने की वजह से...

భారత్‌లో విడుదలైన 3 కొత్త NIJ ఎలక్ట్రిక్ స్కూటర్స్.. చీప్ కాస్ట్ & మోర్ ఫీచర్స్

ఎన్‌ఐజె ప్రవేశపెట్టిన మూడు ఎలక్ట్రిక్ స్కూటర్లకు క్యూవి 60, అక్లేరియో మరియు ఫ్లియన్ అని పేరు పెట్టారు. ఈ ఎలక్ట్రిక్ స్కూటర్లు పెట్రోల్ తో నడిచే స్కూటర్ల...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe