Thursday, May 6, 2021

Uttarakhand Glacier Disaster: ग्लेशियर टूटने से पहले ऐसे बचाएं लोगों की जान, जानिए आपदा की वैज्ञानिक भविष्यवाणी!


नई दिल्ली: ग्लेशियर (Glacier) टूटने की घटनाएं दुनियाभर में होती रहती है. कई जगह इससे भारी तबाही भी देखने को मिलती है. उत्तराखंड की आपदा (Uttarakhand Glacier Disaster) ने पूरे देश को दहला दिया है. लेकि क्या आप जानते हैं कि इससे बचने का तरीका भी है और इसकी जानकारी भी पहले मिल सकती है. इसके लिए हर ग्लेशियर पर कुछ खास तकनीक और ढांचागत वैज्ञानिक विकास करना जरूरी है. अगर ये सब न हो तो ग्लेशियर (Glaciers Lake Outburst And Its Prediction) से आने वाली बा़ढ़ से कैसे बचा जाए.

ग्लेशियर टूटने से पहले जरूरी है ये तैयारी 

सबसे पहले जिस जगह पर बर्फीली झील यानी ग्लेशियर (Glaciers Lake Outburst And Its Prediction) की वजह से झील बन रही है वहां पर मौजूद पानी को धीरे-धीरे करके निकाला जाए. झील की दीवार में छेद करके पानी निकालने से एकसाथ तेजी से पानी के बहने का खतरा नहीं रहता. पंप या साइफन करके झील से पानी निकाला जा सकता है. या फिर नहर भी एक अच्छा विकल्प है जिसे बनाकर बर्फीले बांध का पानी निकाला जा सकता है.

पहले भी अपनाया जा चुका है तरीका 

कजाकिस्तान के अलाताउ में बोगातिर झील (Bogatir Lake in Alatau, Kazakhstan) के साथ अनोखा तरीका अपनाया गया था. झील के आउटफ्लो (Lake Outflow) यानी बहाव की दिशा में खुदाई कर दी गई थी. इसके बाद वहां बम लगाए गए. और फिर उन्हें उन्हें फोड़ दिया गया. इससे झील में जमा 7 मिलियन क्यूबिक मीटर पानी दो दिन में बह गया. और तेजी से झील का पानी कम हो गया. ऐसा ही पेरू में भी किया गया. वहां ग्लेशियर के नीचे घाटी में सावधानी से कटिंग की गई. वहां भी इस तरह से दो दिनों में 10 मिलियन क्यूबिक मीटर पानी निकला.

ये भी पढ़ें – NASA की Chandra X-ray Observatory ने खोजा नया पिंड, जानिए क्यों और कितना खास है Pulsar

ऑउटफ्लो भी है ऑप्शन 

ग्लेशियर से बनी झील के निचले हिस्से में जहां से पानी के बहने की आशंका है, वहां पर पत्थर, कॉन्क्रीट या स्टील की मदद से आउटफ्लो बना कर भी आपदा को रोका जा सकता है. लेकिन ये बहुत टफ प्रोसेस है क्योंकि अक्सर ऐसी ग्लेशियर झीले दुर्गम स्थानों पर होती हैं. वहां तक इतना लॉजिस्टिक ले जाना सम्भव नहीं हो सकता है. ऐसे में स्थानीय स्तर पर मौजूद निर्माण लायक चीजें जैसे स्थानीय पत्थर आदि की मादा लेना बेहतर है. इस पत्थरों के गैबियन यानी तारों के जाल से बांधते हुए नहर जैसा बनाया जा सकता है.

हिमालय की पहाड़ियों में जटिलताएं 

इसके अलावा अमेरिका के वॉशिंगटन में स्थित माउंट सेंट हेलेंस के पास स्पिरिट झील (Spirit Lake, Mount St. Helens, Washington, USA) में भी ऐसा ही हादसा हुआ था. तब इस झील से पानी निकालने के लिए 20 ताकतवर पंपिंग सेट लगाए गए. 30 महीने तक चले इस प्रक्रिया से झील तो खाली हुई लेकिन 80 करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च हो गए. लेकिन अपने यहां हिमालय के पहाड़ों में यह संभव नहीं है. क्योंकि इतनी ऊंचाई तक बिजली की सप्लाई हर जगह संभव नहीं है. लेकिन झील की बर्फीली दीवार के दूसरी तरफ टर्बाइन लगाकर इसका खर्च बचाया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- Mars Planet: मंगल पर पृथ्वी जैसी ‘Landslide’ की घटनाओं ने वैज्ञानिकों को किया हैरान, ये हो सकती है वजह

ऐसे निकालें झील का पानी 

झील की बर्फीली दीवार के निचले हिस्से की तरफ छेद करें. छेद करने से पहले वहां पर टर्बाइन लगा दें तो पानी के फ्लो से वह तेजी से घूमेगा, इससे बिजली पैदा होगी. उसी बिजली से पंप चलाए जा सकते हैं, जो कि ऊपर से बर्फीली झील का पानी खींच रहे होंगे. ऐसे में नियंत्रित तरीके से बर्फीली झील का पानी कम खतरे के साथ निकाला जा सकता है.

ऐसे हो सकती है भविष्यवाणी 

ग्लेशियल लेक आउटबर्स्ट फ्लड (Glacial Lake Outburst Flood – GLOF) की भविष्यवाणी भी हो सकती है लेकिन उसके लिए कई तरह के साइंटिस्ट, हाई रिसर्च, मशीनों, यंत्रों और पैसों की जरूरत पड़ती है. और सबसे पहले जरूरी है कि ग्लेशियरों का डिजिटल डेटा अपने पास मौजूद हो. साथ ही बड़े नक्शे हो जिनका आकार 1:63,360 से लेकर 1:10,000 स्तर का हो.

ये भी पढ़ें- Lava River In Hawaii: आग के गोलों से धधक उठी थी यह नदी, सलामती की दुआओं के बीच घबरा गए थे लोग

ये डाटा है जरूरी 

खतरनाक ग्लेशियरों की रिस्क रिपोर्ट भी विस्तार में होनी चाहिए. ताकि समय-समय पर ग्लेशियल लेक आउटबर्स्ट फ्लड (Glacial Lake Outburst Flood – GLOF) में आ रहे बदलावों का पता चल सके. इनके लिए जरूरी है कि एरियल सर्वे होते रहे. इससे पता चलेगा कि ग्लेशियर में कहां और कितनी टूट-फूट या दरार है

सायरन का होना जरूरी 

ग्लेशियर या ग्लेशियर से बनी झील के आसपास निगरानी के लिए ड्रोन की मदद से तस्वीरें लेना और फिर उन इलाकों में कैमरे लगाकर छोड़ना जरुरी है ताकि हमें सही स्थिति की जानकारी मिलती रहे. साथ ही मोशन और वाइब्रेशन सेंसर लगाया जाना भी जरूरी है जिससे ग्लेशियर में किसी तरह की हलचल या वाइब्रेशन हो तो ये सेंसर्स निगरानी केंद्र को सूचित कर दें. ताकि तुरंत एक सायरन बजाकर इलाके के लोगों को अलर्ट किया जा सके. 

विज्ञान से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

LIVE TV





Source link

MORE Articles

HEALTH NEWS: कद्दू के बीजों का पुरुष ऐसे करें सेवन, फिर देखें कमाल!

नई दिल्ली: अगर आप कद्दू खाते होंगे तो उसके बीजों का क्या करते हैं? कहीं फेंक तो नहीं देते? यदि फेंक देते हैं,...

త్వరపడండి..హోండా యాక్టివాపై అదిరిపోయే డిస్కౌంట్: పరిమిత కాలం మాత్రమే

ఇది మాత్రమే కాకుండా హోండా యాక్టివా 6 జి యొక్క 20 వ యానివర్సరీ ఎడిషన్ కూడా అందుబాటులో ఉంది. దీనిని మార్కెట్లో ప్రస్తుతం 69,343 రూపాయలకు...

30 జిల్లాల్లో ఏడు మనవే.. నవరత్నాలు ఎందుకు, మారెడ్డి అంటూ రఘురామ చిందులు

చీమ కుట్టినట్లయినా లేదు.. కరోనా విషయంలో ఆంధ్రప్రదేశ్ ప్రభుత్వానికి చీమ కుట్టినట్టయినా లేదని చెప్పారు. వైరస్ విషయంలో ప్రభుత్వం తీరు దున్నపోతు మీద వాన పడ్డట్టు...

Scam: స్టార్ హోటల్ లో రూ. 360 కోట్ల డీల్, నాడార్ స్కెచ్, లేడీ కాదు మగాడి మెడలోనే, ఢమాల్!

హరినాడార్ అంటేనే బంగారంకు బ్రాండ్..... క్రేజ్ తమిళనాడులోని తిరునల్వేలికి చెందిన హరి నాడార్ అలియాస్ హరి గోపాలక్రిష్ణ నాడార్ అంటే బంగారు నగలకు బ్రాండ్ అంబాసిడర్...

Stay Connected

98,675FansLike
224,586FollowersFollow
56,656SubscribersSubscribe